Friday, August 2, 2019

Modi 2.0 on Xi's tapestry

Pankaj Sharma
29 July 2019

http://www.millenniumpost.in/opinion/modi-20-on-xis-tapestry-366110


A little before the 2019 general elections in India, I visited China for a week at the invitation of Beijing's Tsinghua University and China Institutes of Contemporary International Relations. Apart from the discussions on formal topics in Seminars and Round Tables, Indian Prime Minister Narendra Modi's political fate was the obvious subject of inquisitiveness for scholars during informal interactions. Chinese analysts saw Modi's re-election as a foregone conclusion. They, without any exception, told me that they see no chances for an opposition coalition to form the next government in India. Also Read - Taking the opportunity After the elections, the same analysts were shocked. What came as a big surprise to them was the scale of Modi's victory. Like many in India, they also felt that Modi would return with a reduced margin, will not get a clear majority and be forced into a coalition government. Chinese prepared a foreign policy plan with India on the basis that Modi would not have as free a hand in governance as he did in his last term and the Opposition will have a greater say than before. Also Read - Faith in the pioneers Second Modi administration has compelled the Chinese to redraft their whole strategy towards India. In the first Modi term, India-China relations were a mixed bag. The Chinese felt that 'businessman' Modi will increase economic activities with them. When Modi made a special gesture of hosting Chinese President Xi Jinping in his home state Gujarat, immediately after taking over as Prime Minister in 2014, Chinese analysts were full of hope for a big leap in Indo-China trade. During my previous visits to renowned Think Tanks in Shanghai and Beijing, I sensed that despite apprehensions, China's ruling dispensation somewhere had expectations that Modi will walk a few extra steps to improve economic engagement between the two countries. Instead, Modi sought a closer relationship with the US. Modi's special attention to Tibetan Sikyong and Taiwan's top diplomatic representatives in India, double-downing the opposition to Belt and Road Initiative, stand on the issue of India's membership to Nuclear Suppliers Group, sanctioning of Pakistan based terrorists and Doklam episode kept the relationship off-balance between India and China. The informal summit at Wuhan between Xi and Modi managed to restore some normalcy. But Wuhan was more of an outcome of instantaneous requirements for both leaders than their 'holy desire'. To Xi, it was the beginning of China's trade war with America and Modi needed to focus on the coming general elections in India. Xi returned for his second term in power in 2017 and can remain on his seat for a lifetime now. Modi has also worn a feather of his 'ThreeNotThree' election victory and will remain at the helm of India's affairs at least till 2024. Both of them now have greater clout. Modi has invited Xi for the Wuhan-2 in Varanasi later this year, but I do not see that the rhetoric of 'Wuhan spirit' is going to contribute much in ameliorating affinity between India and China as much as Chinese expect from the second Modi regime. Old problems in the relationship will go on. New issues such as China's broadened economic and political influence in South Asia and India's pro-American careen are bound to impact the bilateral relationship. The only way to walk together in a positive direction is by not posing a threat to each other and having more and more consensus on global issues by putting the harder problems aside. The understanding shown by India and China during recently held Shanghai Cooperation Organisation Summit in Bishkek on the issue of trade protectionism was a welcome sign but the fact remains that China itself lacks in following most of SCO declarations. China expects India to open up to larger Chinese investments but is not ready to crack open its own high walls of non-tariff barriers against Indian goods and services. India's huge trade deficit with China is a major aching point in the relationship. Xi had promised on the banks of Sabarmati during his 2014 visit for a direct investment of $30 billion in five years. India could not get even a fraction of this. It is a false conception that the manufacturing units set up by Chinese mobile phone companies are providing local employment as their arrival is at the cost of throwing Indian manufacturers out of the market en masse. It is highly counterproductive and will ultimately demolish India's sustainable growth. India has tried to ease its resistance on China-led connectivity initiatives and sent Indian representatives to the 13th Bangladesh-China-India-Myanmar (BCIM) Regional Cooperation Forum meeting held in Yunnan. But suspicions about Chinese intentions are still alive in Indian minds. China's relationship with Pakistan will always remain a matter of concern for India till China decides to dilute its strong political and economic patronage to the 'home of terrorists'. How can China pressurise India for a bargain on Dalai Lama and Taiwan and at the same time go ahead with its deep closeness with Pakistan? Unlike his first swearing-in ceremony, Modi did not invite Tibetans or Taiwanese to his second-one. But Chinese analysts seem disappointed on the appointment of S Jaishankar as India's foreign minister. Jaishankar was India's ambassador to China for an enduring tenure but the Chinese see him as pro-US and supporting Japan. I am unable to find any instance when the Chinese are not watching how India interacts with the US. Therefore, Jaishankar's diplomatic flow matters. China would typically hope that India does not get too close to the US and Japan. India's position on future Dalai Lama will also be closely watched in China and Modi will have to tackle it with the required wisdom. China has made its intentions clear to appoint the next Dalai Lama, which has been strongly denied by the current Dalai Lama, who reserves his right to nominate. This issue, sooner or later, is going to infuse a substantial intensity of uncertainty to Indo-China affiliation. Global weather is not very conducive at the time of Modi's entry into his second term. The bilateral competition that exists between the US and China will escalate in years to come. In his first term, Modi recognised that India's strategic interests in Asia would be best served by venturing with the US. In his second term, Modi has to carry forward a complex bilateral agenda with China. Change in the leadership temperament is central to any bilateral advancement between India and China. India's neighbourhood will remain the topmost priority in the second Modi term. Sri Lanka and the Maldives have reshaped their relationship with China. Nepal has moved towards a new normal and no longer wants to intensely rely on India. New Delhi's approach will entirely depend on Beijing's policy activism in nearby residents of India. Modi has very rightly shown his strong willingness to assert India's interests in the neighbourhood. Therefore, if China miscalculates the equilibrium point in the competition-cooperation dynamics with India, Modi 2.0 will prove more challenging for Xi. (The author is Editor & CEO of News Views India and a national office bearer of the Congress party. The views expressed are strictly personal)

http://www.millenniumpost.in/opinion/modi-20-on-xis-tapestry-366110

तथास्तु की प्रतीक्षा और प्रलय-प्रवाह

Pankaj Sharma
27 July, 2019


मेरे दादा जी कहा करते थे कि जब जेठ का महीना हो तो सिर को ढंक कर रखना चाहिए। आजकल यूं भले ही सावन का महीना है, मगर कांग्रेस तो जेठ के गरमा-गरम महीने से ही गुज़र रही है। सो, भी ऐसे खुले सिर। दुबली गाय के लिए दो आषाढ़ कैसे भारी पड़ते हैं, वही जानती है। कांग्रेस को, सिर पर बिना किसी छत के, जेठ के ये दो महीने कितने भारी पड़े हैं, यह भी कांग्रेस के पैदल-सैनिक ही जानते है। 
एक ज़माने में जब कोई रंगून जाता था तो वहां से कम-से-कम ‘टेलीफून’ तो करता था यह बताने को कि तुम्हारी याद सताती है, मगर राहुल गांधी कार्यसमिति की बैठक से उठ कर गए तो ऐसे गए कि कांग्रेस की पछाड़ें उनके जिया में कोई आग ही नहीं लगा रही हैं। वे तो ‘जो कह दिया, सो, कह दिया’ की मुद्रा में हैं। और, जिन्हें कांग्रेसी-शिखर पर राहुल की अनुपस्थिति की भरपाई प्रियंका से होने की आस थी, वे भी अब सुबकते घूम रहे हैं।
श्रावण भगवान शिव का सबसे प्रिय महीना है। राहुल शिव-भक्त हैं। इसलिए मुझे लगता है कि श्रावण-पूर्णिमा आते-आते कांग्रेस का मौजूदा संकट फ़िलहाल कुछ तो टल जाएगा। उसके नतीजे कितने स्थाई होंगे, समाधान कितना दीर्घकालीन होगा और कांग्रेस की रक्त-वाहिनियों में उससे कितनी जान आएगी, मैं नहीं जानता। मैं कतई आश्वस्त नहीं हूं कि दनदनाती फिर रही सत्तासीन टोली के सामने राहुल-प्रियंका-सोनिया विहीन किसी भी कांग्रेसी-नेतृत्व की टांगें नहीं कांपेंगी। ऐसे मे जो होगा, बेहद अल्पकालिक साबित होगा।
राहुल दुःखी हो कर गए हैं। उन्हें मसले का इसके अलावा कोई समाधान ही नहीं सूझा कि वे ख़ुद को दूर कर लें और सब-कुछ दूसरों पर छोड़ दें। सूझा होता तो कांग्रेस पर आज यह विपदा न पड़ी होती। इसलिए मैं तो भगवान शिव से राहुल की तरफ़ से यही अर्ज़ कर सकता हूं किः 
सदुपायकथास्वपण्डितो हृदये दुरूखशरेण खण्डितरू।
शशिखण्डमण्डनं शरणं यामि शरण्यमीरम् ॥
महतरू परितरू प्रसर्पतस्तमसो दर्शनभेदिनो भिदे।
दिननाथ इव स्वतेजसा हृदयव्योम्नि मनागुदेहि नरू॥
सावन के महीने में शिव से की जाने वाली इस प्रार्थन का मोटे तौर पर यह अर्थ है कि हे प्रभु! मेरा हृदय बहुत गहरे दुःख से पीड़ित है। मैं इस दुःख को दूर करने वाला कोई उपाय भी नहीं जानता। मैं आपकी शरण में हूं। आप मेरा यह दुःख दूर करें। ज्ञान-दृष्टि को रोकने वाले इस अंधकार को भगाने के लिए मेरे हृदय में प्रकट हो जाइए। आप मेरे हृदय में प्रकट रहेंगे तो अज्ञान का यह अंधकार दूर हो जाएगा।
राहुल ने कांग्रेस के साथ जो किया, सोच-समझ कर ही किया होगा। जो उन्हें ठीक लगा, वही किया होगा। कांग्रेस में जब सबने अपने मन की कर ली और किसी ने कोई कसर नहीं छोड़ी तो राहुल को ही अपने मन की करने से हम कैसे रोकें? फिर भी मेरी एकदम अटूट मान्यता है कि जब एक से ज़्यादा लोग किसी नाव में बैठे हों तो उनमें से किसी भी एक को यह हक़ नहीं है कि वह उसमें सूराख़ कर दे। राहुल को भी नहीं। मगर जब खेवनहार के इर्दगिर्द घिरे लोगों में से ज़्यादातर ख़ुद ही इस नैया को छेद-छेद कर चुके हों तो खिवैया भी क्या करे? राहुल कोई इस जहाज को छोड़ कर भागे तो हैं नहीं। वे बैठे तो इसी जहाज में हैं। भाग्य तो राहुल का भी इसी नाव के साथ बंधा है। वे, बस, इतना ही तो कह रहे हैं कि पतवार अब कोई और संभाले। 
उनके यह कहने के बाद दो महीनों से कांग्रेस के सपनों का मरना जारी है। पांच बरस से सपने उदास तो थे, मगर वे मर नहीं रहे थे। उनमें लौ बाकी थी। इस आम-चुनाव के नतीजे ने भी सपनों के प्राण पूरी तरह नहीं हरे थे। उनकी लौ मद्धम पड़ी, मगर चिनगारियां बाकी थीं। लेकिन पिछले दो महीने से देश-दुनिया कांग्रेसी सपनों का अंतिम संस्कार देख रही है। ऐसे में कपाल-क्रिया को कोई कब तक टाले पाएगा? ज़िंदगी में कोई कम माथाफोड़ी थोड़े ही है। राहुल ने अपने को इस माथाफोड़ी से अलग कर के कांग्रेसियों को एक-दूसरे का माथा फोड़ने के लिए छोड़ दिया है। देखें, क्या होता है?
कांग्रेस को इसी बेतरतीबी के बीच चार राज्यों के चुनाव में जाना है। महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड और दिल्ली में कौन-सा प्रदेश ऐसा है, जहां लोग कांग्रेस-कांग्रेस जप रहे हैं? नरेंद्र भाई मोदी और अमित शाह ने कर्नाटक पर ‘मोशा’ मुहर लगा दी है। उनका वश चलेगा तो वे अगले कुछ महीनों में बिहार में नीतीश कुमार के नीचे से गलीचा खींच लेंगे। सो, पांचवे राज्य में भी कांग्रेस को उनकी चुनावी बर्छियों का सामना अगला साल शुरू होते ही करना होगा। बहुत मुमकिन है कि राहुल या प्रियंका के नेतृत्व में भी कांग्रेस इनमें से किसी भी राज्य में अपनी छटा न बिखेर पाए। लेकिन शीर्ष पर उनकी अनुपस्थिति और निर्णय-प्रक्रिया से उनकी किनाराक़शी तो कांग्रेस के पर्यवसान की गारंटी ही बन जाएंगे।
भारत में ऐसे लोगों की क़तार लंबी होती जा रही है, जिन्हें भेड़ियों के चरण-कमल धोते हुए अपनी ज़िंदगी धन्य लगने लगी है। ठीक है कि हर तमाशे का एक-न-एक दिन अंत होता है। लेकिन वह तब होता है, जब हमारे बीच वे लोग मौजूद होते हैं, जिनकी बाज़ुएं हर अन्याय पर फड़कती हों। चरण-स्पर्श कला के बूते सीढ़ियां चढ़ने वालों के पास बाज़ुएं होती ही कहां हैं? उनकी कमर तो झुक-झुक कर पहले ही टूट-फूट चुकी होती है। जिन्हें सीधा खड़े रहना ही नहीं आता, उनके भरोसे कहीं युद्ध जीते जाते हैं?
ऐसी ही आशंकाओं के साए तले कांग्रेस के पैदल-सैनिक इन दिनों आंख मिचमिचाते हुए राहुल-प्रियंका की तरफ़ देख रहे हैं। इसलिए सोनिया गांधी को इन आंखों की मिचमिचाहट भी ख़त्म हो जाने से पहले कांग्रेसी-आसमान पर कोई छतरी तान देनी होगी। देर हो गई तो किसी के किस काम की कोई भी आकाशगंगा? वैसे ही पैदल-सैनिक इनेगिने बचे हैं। उनमें कच्चा घड़ा ले कर दरिया पार करने का हौसला अब भी है। मगर कांग्रेस के बेड़े में तो, पता नहीं किस-किस के प्रायोजित, सियार कब के घुसपैठ कर चुके हैं।
सो, कांग्रेस को अपनी ज़िंदगी के कुतुबनामे पर बेहद संज़ीदगी से ग़ौर करना होगा। कांग्रेस की भीतरी दुनिया जिनती सुलझी हुई होगी, उसकी बाहरी दुनिया उतनी ही संवरती चली जाएगी। अभी तो मुसीबत ही यह है कि उसका भीतरी संसार ऐसा उलझ गया है कि ‘उलझन सुलझे ना’ का ही आलाप चारों तरफ़ बज रहा है। आज जब नए सिरे से समता-मूलक समाज बनाने की सबसे गहरी चुनौती सामने है, नई चेतना के दरवाज़े को ज़ोरों से खटखटाना ज़रूरी हो गया है, तब यह कांग्रेस का दुर्भाग्य नहीं है कि वह इस हाल में है। यह तो पूरे मुल्क़ की बदक़िस्मती है कि सघन चिकित्सा कक्ष में कांग्रेस के सिरहाने कोई नहीं है। जो भी आज के हालात के लिए ज़िम्मेदार हैं, वे सब पाप के भागी हैं। 
जिन्हें अब भी लग रहा है कि उन्हें इसलिए राहुल-प्रियंका-सोनिया की ज़रूरत नहीं है कि ऊपर से कोई उतरेगा, पावन जल छिड़केगा, तथास्तु कहेगा और नरेंद्र भाई मोदी की क़रामातों का जवाब देने की इच्छा-पूर्ति के लिए पूरा भारत उठ कर खड़ा हो जाएगा, उनकी मूढ़ता का वंदन करते हुए, चलिए, मैं भी आपके साथ भीगे नयनों से अपने जनतंत्र का यह प्रलय-प्रवाह देखूं। (लेखक न्यूज़-व्यूज़ इंडिया के संपादक और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी हैं।)

Priyanka, the only answer

Pankaj Sharma
21 July 2019

http://www.millenniumpost.in/opinion/priyanka-the-only-answer-364598


It was almost 34 years back when Rajiv Gandhi talked, for the first time, about his children—Rahul and Priyanka—in a TV interview and said, "Priyanka, in a sense, is much tougher. She is a lot like my mother (Indira Gandhi). Strong-willed. Rahul is much more outgoing, sporting type of a person and much more sensitive perhaps." Priyanka was 12 and Rahul was 14 years old then. Three and a half decades later, when Priyanka is 47 and Rahul is 49 now, we are witnessing that both of Rajiv's observations proved so true. Anguished after the consecutive second defeat for his party in parliamentary elections and deeply hurt with the treatment he got from his own party leaders during electioneering, 'sensitive' Rahul decided to quit as the president. He turned down all the appeals to continue in the past two months. On the other hand 'much tougher' Priyanka has brought the entire Uttar Pradesh government, and for that matter Narendra Modi government, on their toes on killings of tribal farmers in a Sonbhadra village. Also Read - Taking the opportunity The whole country watched Priyanka for two days fighting for justice to the victims and not leaving the site until she was allowed to meet the aggrieved families. State administration had to ultimately end her detention. Priyanka met members of the victims' families and announced that the Congress party will give Rs 10 Lakh to each affected family. She took a dig at Bhartiya Janata Party leadership that 'the responsibility for the massacre is with Yogi-government and not with Nehru and a fast-track court must be set up to give justice to sufferers'. Also Read - Faith in the pioneers Priyanka's 'Chunar Fort episode' has infused a fresh sense of enthusiasm among the party workers nationwide at a time when Congress is passing through an unprecedented crisis. Amidst Rahul Gandhi quitting and voices rising from different quarters for handing over the presidency to Priyanka if Rahul does not withdraw his resignation, there seem interesting times ahead in Congress' inner politics. When Rahul decided to contest the 2004 Lok Sabha elections, many believed that the wrong Gandhi sibling was joining politics. It was widely held that his younger sister Priyanka was more suited for the role. While making his intent of owning accountability for the electoral defeat and quitting from the position of the president very clear on May 25, 2019, in the Congress Working Committee meeting, Rahul had also advised his party colleagues to elect a 'non-Gandhi' as the next chief. CWC had unanimously rejected his resignation. It means his suggestion for appointing 'a non-Gandhi' had also been denied at the same time. The fact should be underlined that Rahul has no formal mention of this idea in his four-page resignation letter released through a tweet on July 3, 2019. Therefore, in my view, CWC is not obligated to not choose Priyanka—a Gandhi—as the provisional president, pending the election of the new president in place of Rahul. Moreover, Rahul has made it clear that he will not participate in the process to select his replacement. I am of the firm opinion that this is not the time when the Congress party can even afford to think of 'a non-Gandhi' being at the helm of its affairs. With my more than 35 years experience with Congress affairs, first as a journalist and then as its part, I have no doubt that in Narendra Modi-Amit Shah era, Congress has very bleak chances to keep intact its bricks without a strong plastering of Nehru-Gandhi clan. In today's politics, which is heavily influenced by 'MoSha device', no other leader will be capable enough to face the massive showers of political encounters. I recall the days after Congress had poorly performed in 1996 general elections. There was massive pressure on Sonia Gandhi, who had shunned politics after Rajiv Gandhi's assassinations, to take over the party and campaign for 1998 elections. Rahul and Priyanka opposed this idea. They even warned her mother that she would be discarded by the party once the electoral battle was over. Sonia agreed to campaign and held her first giant rally at Ramlila Maidan in Delhi. From that day onwards, until this day, it's a story of her answering every call of the duty with full conviction. After taking over the reins of the party in 2013 as the Vice President, Rahul also tried his best. By the time he became the president of the party in 2018, he had learnt a lot and was an entirely different person. The way he dealt with multidimensional struggle untiringly in the past one-and-a-half year had been exceptional. After the election results, he has been hard on himself to teach a lesson of accountability to his colleagues, which is resulted in a baffling situation for his party. He is sensitive, he is sentimental and he believes in pellucidness. So, he now wants himself on sideways. In these circumstances, no other leader than Priyanka can write a new chapter of the structural and ideological foundation for the Congress party in days to come. To do experiments, you need fair weather. Congress is passing through a thunderstorm. It is not easy to navigate its future path. You can't put anyone on the wheel. It requires experience, commitment, and clarity of mission to take off now. I, with several of my journalist friends, was a witness to Priyanka's killing instinct when she lashed out her uncle Arun Nehru who was contesting from Rae Bareli on a BJP ticket in 1999. Priyanka's few lines at an election rally shattered all of Arun Nehru's dreams forever. Priyanka and Rahul exemplify the harmony of the family. Priyanka's inner stability, political acumen, and poise are the treasure for Congress. She knows how to give back what she gets. It will not be simple for Modi-Shah duo to deal with her. With Priyanka taking over the Congress at this crucial juncture, the party will get a new soul and a new spirit of devotion for millions of workers. The timing of Priyanka's entry into full-fledged politics had always been very important for the Gandhi-family. Nothing could be a better time than this for Congress to make her agree for holding the fort if Rahul has decided to move in the backroom. There is never one thing that leads to success for anyone. It is always a combination of hard work, dedication and passion, and being in the right place at the right time. Rahul missed the later part of this. He decided not to join the government in 2004 and again in 2009. He became Vice President of his party at a wrong time. He left the presidency also at a wrong time. It was the right time when he should have tightly fastened his seat belts to lead the party through turbulences. Congress will severely miscalculate the timing if it goes for any other commander than Priyanka Gandhi. No one can make it with distant participation of Sonia-Rahul-Priyanka. Congress is not the same Congress anymore. (The author is Editor & CEO of News Views India and a national office bearer of the Congress party. The views expressed are strictly personal)

http://www.millenniumpost.in/opinion/priyanka-the-only-answer-364598

चापलूसी के चरम की तोहमत के बावजूद

Pankaj Sharma
20 July, 2019

चेतन भगत ख़ुद को भले ही अंग्रेज़ी का प्रेमचंद समझते हों, मैं उन्हें आंग्ल-जगत के उपन्यास लेखन का बेहद भोंथरा गुलशन नंदा मानता हूं। पिछले कुछ वक़्त से उन्हें संजीदा सियासी गलियों के औपन्यासिक कथानक रचने का शौक़ भी चर्रा गया है। अंग्रेज़ी में अगड़म-बगड़म लिखने वालों को आन गांव का सिद्ध मान कर सज़दा कर रहे हिंदी-प्रकाशनों के बौद्धिक दिवालिएपन ने अपने पाठकों को ऐसे बहुत-से तेजाजी महाराजों के हवाले कर दिया है, जिनकी झाड़-फूंक से भारत का लोकतंत्र थरथरा रहा है। 
कच्ची सोच वाले चेतन भगत के जो पाठक कानों में उनकी बालियां पहने नाच रहे हैं, उन्हें कौन यह समझाए कि देश की राजनीति ‘हाफ़ गर्लफ्रेंड’ का चित्र-फलक नहीं है। हांगकांग में गोल्डमैन के इन्वेस्टमेंट बैंकर की नौकरी के बाद अंग्रेज़ी उपन्यासों के आधुनिक जगत में तो अपनी वैचारिक तरंगों को शब्दों में पिरो कर लोगों के गले उतार देना आसान हो सकता है, मगर भारत की पेंचदार सियासत पर अपनी क़लम का लड़कपन उंडेलने की चेतन की कोशिश बेतुकेपन की हद ही है। 
राहुल गांधी को कांग्रेसी सियासत के दंडक-वन भेजने की तिकड़म चेतन भगत काफी वक़्त से लगा रहे हैं। अनेक भुजाओं वाला हिंदी का एक महाकाय अख़बार चेतन भगत की देव-वाणी छाप कर अपना इहिलोक सुधारने में अरसे से लगा हुआ है। पिछले साल फरवरी की शुरुआत में चेतन भगत का एक लेख छाप कर बेपैंदी के इस समाचार-पत्र ने देश को बताया था कि वैसे तो राहुल गांधी की अगुआई में कांग्रेस के लिए 2019 का चुनाव जीतना नामुमक़िन है, मगर अगर कांग्रेस फलां-फलां क़दम उठाए तो आम-चुनाव जीत भी सकती है।
चेतन भगत ने तब हमें बताया था कि अगर कांग्रेस राहुल के बजाय सचिन पायलट को भावी-प्रधानमंत्री के तौर पर पेश कर दे तो चुटकी बजाते चुनाव जीत जाएगी। अब, दो दिन पहले, इसी अख़बार ने चेतन भगत का एक और लेख छापा है, जो कहता है कि कांग्रेस अगर राहुल की जगह सचिन पायलट को अपना अध्यक्ष बना ले तो देखते-देखते तर जाएगी। डेढ साल पहले भी चेतन के गिरधर-गोपाल सिर्फ़ सचिन थे और आज भी वे ‘दूसरो न कोई’ के भाव से विभोर हैं। न उन्होंने कोई और नाम तब लिखा था, न अब। 
इस बार तो चेतन भगत ने एक कुलांच और भरी। 6 जुलाई को अपनी ट्विटर-मुठिया पर उन्होंने एक जनमत-संग्रह आयोजित किया। सवाल दागा कि कांग्रेस की मौजूदा परिस्थितियों में अध्यक्ष पद के लिए पुराने तज़ुर्बेकारों के बजाय क्या सचिन पायलट बेहतर रहेंगे? जवाब के लिए हां, ना और पता नहीं के तीन विकल्प दिए। चेतन का कहना है कि उन्हें 43 हज़ार लोगों की राय मिली। उनमें से 86 प्रतिशत ने हां कहा। सो, सचिन की पगड़ी पर यह कलगी जब लगेगी, तब लगेगी, चेतन तो इन दिनों अपनी पगड़ी पर उसे लगाए घूम रहे हैं। 
सचिन मेरे भी प्रिय हैं। मैं उनका प्रिय हूं या नहीं, मालूम नहीं। उनके पिता राजेश पायलट मुझ से ज़रूर बेहद मित्रवत थे। इसलिए चेतन भगत की सलाह पर अगर सचिन प्रधानमंत्री का चेहरा घोषित हो जाते और नरेंद्र भाई मोदी को चुनावी-दुलत्ती मार देते तो मैं तो परसाद बांटता। अब चेतन की सलाह पर अगर वे कांग्रेस-अध्यक्ष बन दिए जाएं और 134 बरस पुरानी पार्टी पार लग जाए तो भी मैं अगले ही दिन गंगा नहाने चला जाऊंगा। लेकिन अहमदाबाद के आईआईएम में ढले विचारों से ही अगर कांग्रेस की गुत्थियां सुलझ सकतीं तो फिर आज की नौबत ही क्यों आती? चेतन भगत ज़रा इतना तो समझें कि जिस कांग्रेस ने राहुल गांधी की नेकनीयती को दिन में ऐसे तारे दिखा दिए कि वे बेचारे स्व-समाधि ले बैठे, वह सचिनों को कौन-कौन से आसमानों की सैर कराने का माद्दा रखती है?
अपने सारे पत्थर राहुल पर और सारे फूल सचिन पर बरसाने के अनवरत पूर्वाग्रह से सराबोर चेतन भगत ने अपने ताज़ा लेख में बेसिर-पैर की कुछ अवधारणाएं पेश कर अपने दुराग्रही दिमाग़ की व्यापक झलक हमें दी है। बानगी देखिएः
एक, कांग्रेस मरी नहीं है, मगर इसमें जान भी नहीं है और हम नहीं जानते कि इसमें जान कब लौटेगी। यह सब राहुल गांधी के इस्तीफ़े की वज़ह से हो रहा है। उनका इस्तीफ़ा एक ईमानदार पहल नहीं है। इस्तीफ़ा पद से है न कि सत्ता से।
दो, गांधी-परिवार ने मंच तो खाली कर दिया है, पर हाशिए पर खड़ा होकर वह देख रहा है कि उनकी जगह लेने की हिम्मत कौन करता है। गांधी-परिवार के सदस्य सिर्फ़ ख़ुद की तरफ़ देख रहे हैं। गांधी-परिवार दिन-ब-दिन अलोकप्रिय होता जा रहा है। उसके पुनरुद्धार की संभावना असाधारण रूप से शून्य है। यह परिवार बहुत पहले ही नए भारत से अपना संपर्क खो बैठा है। अपना रिश्ता गंवा चुका है। वह विनम्रता, पश्चात्ताप अथवा बदलने की इच्छा दिखाने से इनकार कर रहा है।
तीन, परिवार चीज़ों को ठीक करना नहीं चाहता। उन्हें अपनी जवाबदेही महसूस नहीं हो रही है। वे मुह फुला कर बैठे हैं। जब पार्टी का क्षरण हो रहा है तो शीर्ष पर इससे निपटने की कोई योजना नहीं है।
चार, 86 प्रतिशत लोग पुराने नेता की जगह सचिन पायलट को बतौर अध्यक्ष पसंद कर रहे हैं। फिर भी कांग्रेस में सुई हिलने को तैयार नहीं है।
चेतन भगत के इस बोध-ज्ञान की बलिहारी! चेतन यह तय तो कर लें कि कांग्रेस की जान राहुल की वजह से जा रही है या राहुल के हटने से कांग्रेस बेजान हो गई है? चिपकू-सियासत के घनघोर कलियुग में राहुल का इस्तीफ़ा भी जिन्हें ईमानदार पहल नहीं लग रही, मुझे तो लगता है कि उनकी पट्टी-पूजा में कोई बुनियादी ख़ामी रह गई है। गांधी-परिवार के सदस्य अगर ख़ुद की तरफ़ देख रहे होते तो न पामुलपर्ति वेंकट नरसिंहराव प्रधानमंत्री बनते और न डॉ. मनमोहन सिंह। क्या चेतन भगत हमें ईमानदारी से बताएंगे कि उन्होंने प्रकाशकों के गठजोड़ और बाज़ारवाद की किलेबंदी को भेद कर उपन्यासों की दुनिया में अपने कितने समकालीनों के शिखर तक पहुंचने में अड़ंगे डाले? छिछले लेखन के संसार तक में हर तरह की उठापटक कर के स्पर्धियों को पटकनी देने में मसरूफ़ रहने वाले, राजनीति के बीहड़ संसार में, ख़ुद बगल होकर, दूसरों को रास्ता देने के पीछे का भाव क्या ख़ाक समझेंगे?
जिन्हें कांग्रेस और देश की राजनीति चेतन भगत से समझनी हो, समझें। मुझ जैसे लाखों लोगों का दुर्भाग्य कभी इतना प्रबल नहीं होगा कि उन्हें बाज़ारू-ठुमकों के बूते चार दिनों की शोहरत हासिल कर लेने वालों से राजनीतिक मोहिनीयट्टम के सूत्र समझने पड़ें। बावजूद इसके कि चेतन-चिंतन के अनुगामियों को कांग्रेस इतनी अधमरी दिखाई दे रही है कि नेहरू-गांधी परिवार तो अब कभी उसका उसका उद्धार कर ही नहीं सकता, मैं आपसे कहना चाहता हूं कि जिस दिन सोनिया-राहुल-प्रियंका ने कांग्रेसी-नाव से अपने चप्पू पूरी तरह खींच लिए, उसकी किरचें बिखर जाएंगी। 
जो आज के इस सच से निग़ाहें चुराना चाहते हैं, ख़ूब चुराएं। इस सत्य के कथ्य को चेतन भगत ने अपने लेख में चापलूसी का चरम बताया है। मेरे जैसे बहुत-से लोग यह तोहमत इसलिए लेने को तैयार हैं कि उन्हें दूर से दिखाई दे रहा है कि यह ‘मोशा-युग’ है। सो, भारत कांग्रेस-मुक्त तभी होगा, जब कांग्रेस परिवार-मुक्त होगी। इसलिए तब तक, जब तक कि देस-परदेस के क्षितिज पर उतनी ही प्रभावोत्पादक, उतनी ही समर्थ और उतनी ही दिलेर नाभिकीय-इकाई निर्मित नहीं होती; कांग्रेस हड़बड़ी में कोई भी जोख़िम उठाएगी तो जिस डाल पर बैठी है, उसे काटने का आत्मघाती काम करेगी। बाकी प्रभु-इच्छा! (लेखक न्यूज़-व्यूज़ इंडिया के संपादक और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी हैं।)

Master-key of survival

Pankaj Sharma14 July 2019 8:52 PM

http://www.millenniumpost.in/opinion/master-key-of-survival-363284

No one believed Rahul Gandhi when he offered his resignation two days after the devasting defeat of the Congress party in 2019 general elections. His reiteration that he was serious about his resignation was not taken seriously for a month. Most of the Congress leaders had a hope that Rahul will ultimately accept the decision of the Working Committee which had unanimously rejected his resignation and authorised him to restructure the organisation completely. Also Read - Taking the opportunity Outside the Congress party, people thought it was all drama, a ploy to escape blame and an effort to marshal support for his continuation. The media ensured the nation again and again that it is a matter of time only, melodrama would be over soon and Rahul will continue with business as usual, any day. Every one proved wrong in assessing Rahul's determination. Few had an idea of how strong-minded Rahul could be. His resignation episode has made many people wiser than they were earlier. Also Read - Faith in the pioneers To Congress party, Rahul's resignation is a major blow—much more than its electoral defeat. But at the same time, it has unsettled all calculations of 'MoSha-Brigade'. Prime Minister Narendra Modi and Home Minister Amit Shah must be finding themselves totally unarmed as their unrelenting attacks against Congress, naming it a family shop, has been neutralised by Rahul leaving the presidency and announcing that no member of the family will hold this position. BJP's strategy to describe Congress party as a dynastic outfit and project itself as a party with a difference will not work in any election now. Rahul's resignation move is a two-edged sword. It has silenced BJP on one side and has created tremendous pressure to take appropriate steps within the Congress party to begin a process of complete removal of reasons responsible for the dismal state. If Rahul is to blame for the abysmal performance, many others also have to share this blame. No denying the fact that that a number of blunders in choosing the lieutenants, chalking out the strategies and adopting communication tactics contributed a lot in the defeat. But, despite running a powerful campaign, Rahul has done his part of owning accountability. The whole nation is waiting to watch the actions of those who had left their leader 'all alone' during a crucial battle. Congress also lost badly because BJP exploited every opportunity to raise the sentiments of Hindu nationalism which drastically polarised the Indian society. BJP created a false sense of developmental growth and played the card of economic populism. Modi-Shah duo also did not spare any chance to portray their party as a force fighting against anti-elitism. At a time when these factors have strong potential to give much more political dividends to BJP in future, Rahul's absence has made the revival of the Congress a very difficult task. In today's unprecedented situation, Congress has to first make a consensus on a non-Gandhi under whom the party can keep itself united. Secondly, it has to reconstruct its organisation at all levels. If the Congress crosses through these two challenges successfully, the third would be to project an alternative narrative to RSS-BJP. The foremost challenge before Congress is to survive without a Gandhi at the helm. At the moment, all leaders who have strong bases in their respective regions seem supportive for a unified Congress. Even an indirect but otherwise very clear stronghold of Rahul-Priyanka-Sonia on fundamental issues of the party would be able to ensure the internal stability. In a situation of absenteeism, I do not see an intact Congress fighting against BJP in 2024. Rahul's assurance that he will serve the Congress till his last breath is the only hope of ray if it means that he will take an active interest in all affairs of the party at an organisational level. Regardless of whether Rahul Gandhi is the president of Congress or not, he will continue to be the most important leader of the party. His role in defining the party's narrative, his role in assisting decisions about party positions and his role in preparing Congress to take on against 'Sangh ideology' are the master-keys. After the political crisis in Goa and Karnataka, the survival of Congress government in Madhya Pradesh and results of the elections in Haryana, Maharashtra, Jharkhand and Delhi will decide the future of Congress. It all will depend on how actively and keenly Rahul takes interest in months to come. After quitting the presidency of his party, Rahul has an opportunity to establish himself as an undisputed mass leader of the inclusive polity across the nation. He can emerge as an individual instrument of social transformation. The core of the Congress problem is its shambled organisational machinery. Loyalty to regional leaders has replaced ideology. Control by a handful of party functionaries has replaced the institutional structure. The top-down pipeline has replaced the natural flow of power springs. Secretarial barriers have replaced ground-level communication channels. Rahul must become a voice of common workers within his party and work for eradicating these serious defects. There are pseudo-intellectuals who are offering prayers that Congress must die. They must realise that Congress is the only national alternative to BJP. There exist no other better political unit or group than Congress which can emerge as a pan-Indian replacement. The supposition that a two-party system is inevitable and another group of contenders will fill the opposition space is fatally flawed. India has space for just one national idea against RSS-BJP, and only Congress has the spirit, strength and the fundamental right to represent this idea. All parties except Congress have, at some point of time, concluded with the communal forces. Only Congress has an unblemished track record of fighting against the arms involved in disturbing social harmony. As far as I have observed, after crossing over a very rough road in the past few years, Rahul is now more concerned with truth than opinions. He believes more in sincerity than pretending. He walks his talks and not a hypocrite. He knows who he actually is and tries to be that person. He is now awake to his own feelings. People might not be convinced of his reasons, of his sincerity, of the seriousness of his sufferings. But I am sure, his case cannot remain doubtful for a very long time. To be sincere is the best thing that can happen to you. But Rahul must learn to reserve and give his sincerity to those who deserve it. He must save his emotions, channelling them only to the people who are worthy of it. One must not throw one's pearls to the pigs. (The author is Editor & CEO of News Views India and a national office bearer of the Congress party. The views expressed are strictly personal)

http://www.millenniumpost.in/opinion/master-key-of-survival-363284

संजीदा विलाप के बीच हा-हा-ही-ही

Pankaj Sharma
13 July, 2019
कांग्रेस के 134 बरस के इतिहास में कोई छह दर्जन दिग्गज उसके अध्यक्ष रहे। कई, कई-कई बार रहे। मसलन, व्योमेश चंद्र बनर्जी, दादा भाई नौरोजी, सुरेंद्र नाथ बनर्जी, मदन मोहन मालवीय, मोतीलाल नेहरू, जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, यू. एन. ढेबर, एऩ संजीव रेड्डी, के़ कामराज, इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी। मगर राहुल गांधी ने अध्यक्ष के नाते अपना पहला कार्यकाल भी पूरी तरह पूरा नहीं किया और अपनों से तंग आ कर हट गए।
कांग्रेसी तवारीख़ की जितनी भी जानकारी मुझे है, उस हिसाब से मैं कह सकता हूं कि अपना अध्यक्ष तलाशते वक़्त कांग्रेस इतनी निराश, हताश और बदहवास सवा सौ साल में पहले कभी नहीं रही। अपने इस्तीफ़े की बेहद संजीदा पेशकश राहुल ने 49 दिन पहले की थी। चार पन्नों का उनका त्याग-पत्र पिछले दस दिनों से खुलेआम दीवार पर चिपका हुआ है। और, कांग्रेस में किसी को समझ ही नहीं आ रहा है कि करें तो क्या करें?
एक अर्थवान कांग्रेसी समूह ऐसे अंतःकालीन चेहरे की तलाश में लगा है, जिसे संगठन के पहले पायदन से ले कर शिखर तक का भरोसा हासिल हो जाए। लेकिन कांग्रेस संविधान की चीरफाड़ के विशेषज्ञ यह कोशिश करने वालों के अधिकार पर सवाल उठा रहे हैं। वे पूछ रहे हैं कि अंतरिम अध्यक्ष की खोज कर रहे लोग ऐसा करने वाले होते कौन हैं? उन्हें यह हक़ दिया किसने है? 
पार्टी-संविधान की धारा 18-एच कहती है कि आपात कारणों से अध्यक्ष का पद रिक्त हो जाने पर कार्यसमिति तब तक के लिए अंतरिम अध्यक्ष की नियुक्ति कर सकती है, जब तक कि नए अध्यक्ष का चुनाव न हो जाए। अब जब राहुल मानने को तैयार ही नहीं हैं तो इसके अलावा चारा भी क्या है कि कार्यसमिति अपना यह दायित्व निभाए। मगर यह काम तो उसकी बाक़ायदा बैठक बुला कर ही हो सकता है। बैठक तो तभी हो सकती है, जब पहले-से कुछ तय हो जाए। सो, कुछ वरिष्ठ नेता अनौपचारिक तौर पर सर्वसम्मत चेहरा खोज रहे हैं। लगाने वालों को उनकी वरिष्ठता पर प्रश्नचिह्न लगाने की आज़ादी है। लेकिन सवाल उठाने वालों से कोई पूछे कि मोटे तौर पर कुछ तय किए बिना क्या कार्यसमिति की बैठक को तू-तू-मैं-मैं के हवाले कर देना बुद्धिमानी होगी?
पर, अपने पांडित्य-प्रदर्शन की हवस का सामान्य सियासी विवेक से क्या लेना-देना? भूले-बिसरों के लिए यह मौक़ा अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराने का है। ‘हम भी तो हैं’ की लठिया ले कर इस समय कांग्रेस के भीतर ऐसे-ऐसे घूम रहे हैं कि कोई क्या कहे? अंतरिम अध्यक्ष की दौड़ में ख़ुद को प्रायोजित करने वालों की शक़्ल-अक़्ल देख कर हंसते-हंसते देश के पेट में बल पड़ गए हैं। हर रोज़ सूर्योदय के साथ अजब-गज़ब नामों का उदय होता है और सूर्यास्त के साथ अस्त। सात हफ़्तों में, कुछ क़ायदे के नामों के अलावा, सत्रहों ऐसे नाम भी कांग्रेस-अध्यक्ष पद के लिए सामने आ चुके हैं, जिन्होंने कांग्रेस को गांवों की चौपालों तक हंसी-ठट्ठे का विषय बना दिया है। इसलिए अब जो होना है, जितनी जल्दी हो जाए, अच्छा है। हंसते-हंसते मरने से बेहतर है, ज़मीनी कांग्रेसी रोते-रोते मर जाएं। विलाप की संजीदगी, हा-हा-ही-ही के मनोरंजन से, फिर भी ज़्यादा अर्थपूर्ण होती है। 
कांग्रेस के बहुत-से अध्यक्षों ने हर तरह की चुनौतियों का सामना किया। उन सभी ने अपनी-अपनी शैली में उन चुनौतियों का निपटारा किया। राहुल गांधी को बाहर-भीतर से मिली ललकार मामूली नहीं थी। बाहरी भालों से लड़ते उनकी भुजाएं नहीं थकीं, मगर भीतरी बर्छियों से उनका मन हार गया। वे यह समझने में चूक गए कि सियासत संवेदनाओं का कम, सयानेपन का ज़्यादा खेल है। महात्मा गांधी जब देखते थे कि उनकी सही बात नहीं सुनी जा रही है तो वे ख़ुद की काया को कष्ट देने के लिए अनशन शुरू कर देते थे और उस ज़माने की पूरी कांग्रेस फल-रस के गिलास हाथ में लिए कतार में खड़ी हो जाती थी। राहुल भूल गए कि यह कांग्रेस, वह कांग्रेस नहीं है।
एक बात और। ऐसा नहीं है कि, मन मार कर ही सही, कांग्रेसियों ने राहुल को उनकी कल्पनाओं की कांग्रेस बनाने का मौक़ा नहीं दिया। युवा कांग्रेस और छात्र इकाई में आंतरिक लोकतंत्र के उनके प्रयोगों को कोई नहीं रोक पाया। संगठन में युवा चेहरों को बेहद अहम ज़िम्मेदारियां देने के उनके क़दमों को भी कोई नहीं थाम पाया। कांग्रेसी बिलबिलाते रहे, मगर बोला कोई नहीं। जो औपचारिक-अनौपचारिक मंचों पर कुनमुनाए, किनारे भी हुए। राहुल के इन प्रयोगों का नतीजा क्या निकला? उनकी छुअन के बावजूद युव-जन कद्दावर क्यों नहीं बन पाए? वे बिजूके ही क्यों बने रह गए?
ऐसा दो कारणों से हुआ। एक, खुर्रांट कांग्रेसियों की आनुवंशिकी ही ऐसी है कि नेहरू-गांधी परिवार से किसी के सीधे जुड़ते ही वे उसकी भू्रण-हत्या के औज़ार पैने करने लगते हैं और अंततः गर्भपात करा ही देते हैं। राहुल के पसंदीदा इस खाप-पंचायत से कैसे बचते? दो, अपनी कार्यस्थली के कर्मवीर चुनते वक़्त, अपने पिता राजीव गांधी की ही तरह राहुल भी, अरुण नेहरुओं और वीपी सिहों से घिर गए। सदाशयता के चलते हुई यह भूल राजीव की तरह ही उन पर भी भारी पड़ी। उनके आसपास कर्मवीरों की जगह कर्मकांडियों का घेरा बन गया। जब तक समझ में आया, राहुल को भी अपने पिता की तरह देर हो चुकी थी। 
मैंने चूंकि राजीव गांधी का ज़माना पत्रकार के नाते नज़दीक से देखा है, इसलिए जानता हूं कि अगर श्रीपेरुम्बुदूर की त्रासदी ने भारतीय राजनीति से राजीव को विदा न किया होता तो कांग्रेस तो कांग्रेस, आज भारत की सूरत ही कुछ और होती। भारत के सियासी-पटल पर राजीव की अनुपस्थिति से उपजे शून्य ने कांग्रेस की इमारत कमज़ोर कर दी। आज राहुल की स्व-समाधि से इस इमारत की अंतिम ईंटें भी दरकने का ख़तरा पैदा हो गया है। राहुल साबित कर रहे हैं कि चक्रव्यूह में घुसने का पराक्रम तो उनमें गज़ब का था, मगर उसे भेद कर बाहर आने की दिमाग़ी तैयारी ज़रा कम थी। अब भी देर नहीं हुई है। पिछले सवा साल की हाड़-तोड़ मेहनत ने राहुल की सारी भूलों को पोंछ डाला है। वे अध्यक्ष रहें, न रहें, चक्रव्यूह के परखच्चे वे अब भी बिखेर सकते हैं। लेकिन इतने मायूस-मन से यह नहीं होगा। कांग्रेस के दीए में भभक उठने को बेताब तेल की बाती अब भी है, राहुल को सिर्फ़ एक चिनगारी भर कहीं से ढूंढ कर लानी है।
इसलिए मैं राहुल से कहता हूं कि उन्होंने अपनी जवाबदेही तय कर बहुत-ही अच्छा किया, मगर वे कांग्रेस को इस हंसी-घर से बाहर निकालने की अपनी जवाबदेही निभाने का भी पुण्य करें। दरकती दीवारों पर टकटकी लगाए लाखों कांग्रेस-जन इस उम्मीद में आंसू बहा रहे हैं कि कोई तो दिन आएगा, जब उनके आंसू सम्मानित होंगे। एक सार्थक विलाप की वर्षगांठ मैं भी जीवन भर मनाने को तैयार हूं। लेकिन लतीफ़ेबाज़ी की सालगिरह मुझसे तो एक दिन भी नहीं मनाई जाएगी। चीरहरण के समय मौन रहने वालों को इतिहास क्षमा नहीं करता। शक्ति होने के बावजूद अन्याय को न रोकना भी एक तरह का पाप माना गया है। जीवन में कुछ भी निरस्त नहीं होता है। इसलिए राहुल अगर आज भी तटस्थ बने रहेंगे तो बबूल का जंगल बढ़ेगा और तब कांग्रेस की शाखों पर कोई आम थोड़े ही लदेंगे! (लेखक न्यूज़-व्यूज़ इंडिया के संपादक और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी हैं।)

Thursday, July 11, 2019

No more a dancing floor

Congress must rise from ruins and usher a new era to compete against a flourishing BJP that has gripped the nation with its mandate 


Pankaj Sharma7
 July 2019 

With Rahul Gandhi relinquishing the party president's position, it has become more difficult for Congress to find a leader as decisive and agile as that of Bhartiya Janata Party. Challenges before Congress are multidimensional. They are from nimble-footed behemoth BJP which is powered by ideologically committed workers as well as from within with an entire brigade of worthless creatures at the helm of affairs. Narendra Modi and Amit Shah have redefined the decades' old rules of the game in Indian politics. To play the game while following the 'MoSha' statute is the stiffest test that Congress has to pass. It cannot be done unless the leadership becomes more accessible to party workers. Congress can have a new president but for millions of party workers, Rahul only will remain their leader. Therefore, the success of any revival plan will depend on his communion with them. Every step Rahul takes will go a long way and he will have to focus on mega issues at the micro-level. Also Read - A very ambitious aim It is time Rahul deliberates upon the major socio-political churns in our national polity. The future trajectory of India will depend on how the Congress party addresses concerns of Hindu society in a most diverse country in the world. There was a time when Congress was the only aggregator of country's diversified population. Various sections of the society felt comfortable under its single umbrella. After Independence, Congress evolved a balanced system of power-sharing between different castes and communities. That social structure of power went well for decades. Representation of Dalits and Tribals at all levels of the political system was ensured. A strong commitment to secularism and ensuring the security of minorities kept those sections with Congress. Also Read - A long way to go A clear vision of party leaderships enabled Congress to beat several challenges such as Dravidian politics in south, communist parties in Bengal, Kerala and few other states, Dalit assertion under the aegis of Ambedakarwadi Bahujan politics and ideological construct of Samajwad by OBCs. None of them could emerge as the main aggregator at the pan-Indian stage. The political scene for Congress took turn mainly after 1991. But the carrot and stick-based MoSha-method changed everything and BJP heralded the new age of social engineering in electoral politics. Congress was replaced by BJP as the main aggregator in the nation's politics. Last seven years were full of deception and distortion with a focus on forming an alliance of various Hindu sections. RSS and BJP worked overtime to conceive a 'United Spectrum of Hindu Votes' (USHV). They went to every district level and ensured that a micro caste alliance among Hindus takes strong shape. Congress, on the other hand, was busy administering the philosophical narrative of anti-poverty policies, inclusiveness, and democratic values. Oblivious of real danger, people chose to buy MoSha-nationalism. They ignored the threat a highly polarised country might face in times to come. To make the common people aware of this crisis will be the fundamental responsibility of Congress now. Congress also has to fight against the influence of RSS-minded individuals who have captured policy-making institutions, media, and academia in the last five years. They are effectively leveraging to intensify the conflict between the old urban class and the new. Neo-urban class is a product of economic reforms and has practically no respect for Nehruvian model of a welfare society. This class is so much under pressure of market forces that it understands no basics of religion, secularism, and nationalism. To them, real concerns and local aspirations have no meaning. They crave to be the global citizens and perceive Narendra Modi as someone who will ensure the green card of this citizenship for them. Congress will have to find ways to bridge this gap of fundamental differences and make the youth attentive to real issues. Ground from under the feet of Congress has shifted briskly because Rahul Gandhi had weak lieutenants around him after practically taking over the reins of his party in 2013. He had a multifaceted plan though the team he built was not only naïve but was full of imperious attitude, eager to enjoy the power and impatient to conclude their greed. Most of his team had been on a picnic trip for all these years. A pimple upon an ulcer was the mood of the sidelined old guards who obviously relished Rahul struggling because of his trust in his teammates. Rahul could not achieve his goal because he embraced some wrong people and dethroned some right ones. Congress has always had a chequered history. Maintaining cordial relations among leaders has always been a problem. Jawahar Lal Nehru's relationship with Acharya Kraplani and Purushottam Das Tandon, Indira Gandhi's relationship with K Kamraj, S Nijalingappa and Morarji Desai and Rajiv Gandhi's relationship with Kamalapati Tripathi and Vishwanath Pratap Singh are no hidden stories. But efforts to manage conflicts were no lesser. Congress lacked this spirit in the past few years. If Sonia Gandhi did not play her party, Congress would have gone to a mess long back. Rahul Gandhi's resignation from the presidency of his party has the potential to cut both ways at the moment. His flowing attainment as a leader shall revive the Congress at the core. His absence at the rudder can convert Congress into a feeble organisation—totally incompetent to take on the political ultimatums posed by MoSha. Rahul has said in his resignation letter, "I am available to the party whenever they require my services, input or advice." It shows some apathy because he does not find today's Congress structure strong enough to attract his assistance. Congress needs to radically transform itself to take Rahul along. The solace for party workers is that Rahul has assured, "In no way, shape or form am I stepping back from this fight. I am a loyal soldier of the Congress party and a devoted son of India and will continue to serve and protect her till my last breath." That means on his personal level, Rahul will continue fighting for the same values and principles that the Congress has been fighting for. This ray of hope will keep Congress base intact in coming years. Rest will depend on the new presidency of the Congress party, which has to infuse life with its actions. Waiting for it to happen will be idiocy. To make its own future, to make its own hope and to create its own trust, Congress has to walk hundreds of extra miles. It needs efficient surgeons for internal surgeries. More than that, it also needs skilled social engineers to give MoSha mechanism a fitting reply. It is not easy. Without Rahul Gandhi it is impossible. Congress is not here only for a living. If it does not enrich the foundations of democracy, it will have no future. To have a bright future it has to surround itself with genuine folk. It can no more be a dancing floor for the creamy layer. (The author is Editor & CEO of News Views India and a national office bearer of the Congress party. The views expressed are strictly personal)

http://www.millenniumpost.in/opinion/no-more-a-dancing-floor-362071?fbclid=IwAR2NoeqmWAPk5uR0COG2_tyf1a_ej5JZpVl6d1LKlFU4Nq8kiUix7xg0bTw

राहुल गांधी का ‘मृत्योर्मा अमृतगमय’ क्षण

Pankaj Sharma 
06 July, 2019


राहुल गांधी आज एक निर्लिप्त विजेता हैं। कांग्रेस के अध्यक्ष पद से उनका इस्तीफ़ा उनका आत्मकथ्य है। ऐसा आत्मकथ्य, जिसने, खुल कर कोई माने-न-माने, सबको भीतर तक झिंझोड़ दिया है। कांग्रेसियों की उस ढीठ क़तार को छोड़ दीजिए, जिसकी आंखों से लाज-शर्म कभी की काफ़ूर हो चुकी है, मगर ऐसे भी बहुत हैं, जिनका ज़मीर अभी बाक़ी है, और वे सब राहुल के इस्तीफ़े के बाद निगाहें नीची कर अपने पैर के अंगूठे से ज़मीन कुरेद रहे हैं। 
 
कांग्रेस के भीतर का मौजूदा बेहाल-सा मंज़र और पीले पड़ गए चेहरे किसी से कुछ नहीं बोलेंगे, लेकिन उनके बिना बोले भी पूरा देश समझ गया है कि राहुल की स्व-समाधि ने कैसे एक पूरे शहर को वीरान कर डाला है। कल तक हर बात के लिए उन्हें कोसने वालों को अचानक अहसास हो रहा है कि राहुल की आवाज़ से ही तो कांग्रेस का दीया जल रहा था। अध्यक्ष पद से उनकी विदाई के बाद से अब यह लौ इस क़दर फड़फड़ा रही है कि हाथों की कोई ओट उसकी हिफ़ाजत का ज़िम्मा लेने में सक्षम नहीं दिखाई दे रही।
 
राहुल के इस्तीफ़े ने उन्हें असहमति में उठे उन युगांतकारी हाथों में से एक का दर्ज़ा दे दिया है, जिनकी बदौलत भारत, भारत है। राहुल अब पूरी तरह विपक्ष में हैं। सड़ांध मारती उस व्यवस्था के विपक्ष में, जिसे बदले बिना भारत को भारत बनाए रखने में रत्ती भर भी योगदान करना नामुक़िन है। फिर भले ही यह व्यवस्था नरेंद्र भाई मोदी के सिंहासन के पायों से लिपटी हो या ख़ुद राहुल के अपने संगठन की जड़ों को भुरभुरा बना चुकी हो। व्यवस्था-विरोध के इस संघर्ष में राहुल ने सर्वस्व झौंक दिया है। 
 
मैं जानता हूं कि पिछले कई बरस से कैसे-कैसे बिच्छूं उनकी हथेली के सहारे अपने प्राण बचा रहे थे। उनकी भलमनसाहत के चलते पार्टी ने ऐसे-ऐसे महासचिवों, सचिवों और देश-प्रदेश के पदाधिकारियों को भुगता, जिन्होंने जिस चीज को हाथ लगाया उसे नष्ट कर दिया। लेकिन राहुल इस भाव से भरे थे कि जब बिच्छू, बिच्छू हो कर अपना स्वभाव नहीं बदल रहे तो वे राहुल हो कर अपना स्वभाव कैसे छोड़ दें? उन्हें लगता था कि कांग्रेस की भावी कमान के लिए जो पौध वे तैयार कर रहे हैं, वह एक दिन ज़रूर लहलहाएगी। नव-आगंतुकों और दशकों से जमे चेहरों में खींसे निपोरते घूम-घूम कर अपना मतलब साधने वालों की बड़ी जमात थी। सो, पानी आख़िरकार राहुल के सिर से गुज़रना ही था, गुज़र गया। 
 
जब ज़लालत बेहद पास से गुज़रती है तो उसकी खरोंच का सबसे बड़ा निशान आत्मा पर पड़ता है। इसलिए राहुल का इस्तीफ़ा, इस्तीफ़ा तो जो हैं, सो, है, वह एक ऐसी दर्द भरी फ़रियाद है, जिसे वे बिना अपना पद त्यागे हमें सुना ही नहीं सकते थे। कल्पना तो कीजिए कि राहुल ने यह बात बेबसी का कितना भारी पत्थर रख कर हमारे सामने कु़बूल की होगी कि वे अपने पद से क्यों हट रहे हैं? ज़रा इस्तीफ़े में लिखी इबारत के गर्भ से गूंजती बातों को ग़ौर से सुनिए।
 
एक, 2019 के चुनाव में हार के लिए कांग्रेस-अध्यक्ष के नाते मैं ज़िम्मेदार हूं।
 
दो, हमारी पार्टी के भविष्य और उसकी अनवरत बढ़त के लिए जवाबदेही की समीक्षा बहुत ज़रूरी है। कांग्रेस-अध्यक्ष पद से मेरे इस्तीफ़े की यही बुनियादी वज़ह है।
 
तीन, पार्टी का पुनर्निमाण करने के लिए बेहद सख़्त फ़ैसले लेने होंगे।
 
चार, 2019 की पराजय के लिए बहुत-से लोगों की जवाबदेही करना ज़रूरी है। ऐसे में यह न्याय-विरुद्ध होता कि बाक़ी सबको तो उत्तरदायी ठहरा दिया जाए और कांग्रेस-अध्यक्ष के नाते मैं अपनी जवाबदेही की अनदेखी कर दूं।
 
पांच, मैं राजनीतिक सत्ता पाने की मामूली लड़ाई कभी लड़ ही नहीं रहा था। मेरे मन में भारतीय जनता पार्टी के ख़िलाफ़ कोई नफ़रत है ही नहीं। लेकिन मेरे बदन की हर जीवित कोशिका भारत की उनकी अवधारणा के विरोध में सहज-बोध से फड़कने लगती है। यह प्रतिरोध इसलिए एकदम स्वाभाविक है कि मेरा समूचा अस्तित्व भारत की उस कल्पना से भीगा हुआ है, जो भाजपाई इरादों के सीधे उलट है। यह संघर्ष नया नहीं, हज़ारों बरस पुराना है। जहां वे भेदभाव देखते हैं, वहां मुझे समरूपता दिखाई देती है। जहां वे द्वेष देखते हैं, मुझे प्रीति दिखाई देती है। वे जिससे भय खाते हैं, मैं उसे गले लगाता हूं। हमें भारत की इसी मूल-अवधारणा की अब जी-जान से रक्षा करनी है।
 
छह, इस चुनाव में मैं ने प्रधानमंत्री, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उनके द्वारा कब्ज़ा लिए गए सभी संस्थानों के ख़िलाफ़, निजी तौर पर, अपना सर्वस्व दांव पर लगाया और ऐसे भी मौक़े आए, जब मैं नितांत अकेला खड़ा था। मैं इस युद्ध से कभी पीछे नहीं हटूंगा। मैं कांग्रेस का आज्ञाकारी सिपाही और अपने देश का निष्ठावान बेटा हूं। मैं अपनी अंतिम सांस तक संघर्ष करता रहूंगा।
 
सात, लोकतंत्र की सभी संस्थाओं की तटस्थता और पारदर्शिता की पुनर्स्थापना का, वंचितों को उनके हक़ वापस दिलाने का और अर्थव्यवस्था को फिर पटरी पर लाने का काम सिर्फ़ कांग्रेस ही कर सकती है, लेकिन यह महत्वपूर्ण लक्ष्य प्राप्त करने के लिए उसे अपने भीतर आमूलचूल सुधार लाने होंगे। हम कांग्रेस के असंख्य प्रतिबद्ध कार्यकर्ताओं के बूते यह कर के दिखाएंगे।
 
राहुल की भावनाओं से साफ़ है कि वे पूरी तरह आश्वस्त हैं कि उनके इसी गर्दें-सफ़र से दूर की मंज़िल निकलेगी। अब उन्हें अपने पावों के छाले मज़ा देने लगे हैं। इसलिए मैं जानता हूं कि राहुल अब अपने क़दम रोकने वाले नहीं हैं। नए मुखिया की अगुआई में कांग्रेस उनके साथ चले-न-चले, वे अब चल पड़े हैं। देर-सबेर वह वक़्त आएगा-ही-आएगा, जब दूर से राहुल को देखने वाले भी एक ऐसी कांग्रेस बनाने में उनका हाथ बटाने लगेंगे, जिसके बिना जम्हूरियत का जहाज आज की इकलखुरा सियासत का सियाह समंदर पार नहीं कर सकता।
 
कांग्रेस की राजनीति अंधेरे से ढंका गन्ने का खेत है। उसमें कौन कहां क्या कर रहा है, किसी को पता नहीं चलता। लेकिन राहुल को आहिस्ता-आहिस्ता इसका पता चल गया। वे चूंकि इस व्यवस्था को पालने-पोसने को तैयार नहीं हैं, इसलिए उन्हें जाना पड़ा। वे व्यवस्था को अपने हाल पर छोड़ने के लिए नहीं, बदलने के लिए हटे हैं। जिस दिन यह व्यवस्था बदलेगी, वे लौटेंगे। अगर नहीं बदलेगी तो इस सड़न में दम तोड़ती कांग्रेस की फिर पड़ी भी किसे है? 
 
राहुल को ‘मिट्ठू, चिटरगोटी’ बना कर रखने वालों के लिए राहुल थोड़े ही बने हैं। जो ऐसे आख्यान गढ़ने की कोशिश कर रहे हैं, जिनमें व्यथा-कथाओं की अनदेखी तो कर ही दी जाए, बल्कि राहुल की साहस-गाथाएं भी दफ़न कर दी जाएं, अगर वे अब भी नहीं समझे हैं कि राहुल में अपनी ही चौखट से टकराने का कैसा जीवट है तो ऐसों के बौड़मपन पर तरस खाने के अलावा हम क्या करें? जिन्हें लग रहा है कि राहुल ने अपने पांव के निशान मिटा दिए हैं, इसलिए समय की रेत से उनके पैरों के निशान ग़ायब हो जाएंगे, आइए, हम उनकी अज्ञानता की बलैयां लें। मेरी मानिए तो राहुल ‘मृत्योर्मा अमृतगमय’ हो गए हैं। वे अमृत्यु की तरफ़ बढ़ चले हैं। राहुल कांग्रेसी-अमरपक्षी की राख समेट कर उसे सूर्य के शहर हेलियोपोलिस के हवाले कर रहे हैं। इसी राख से कांग्रेसी-फीनिक्स का पुनर्जन्म होगा। (लेखक न्यूज़-व्यूज़ इंडिया के संपादक और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी हैं।)

Journey to blankness

 With Rahul out of the fray, who will retrieve Congress from its internal ruins? 


Pankaj Sharma
July 2019 

The countdown has begun for choosing a consensual face in place of Rahul Gandhi as the 88th president of the 134-year old Indian National Congress after persistent efforts of one entire month to make Rahul agree for withdrawal of his resignation fizzled out. Congress will get its new chief anytime now. With this, Congress enters in an era filled with ambiguity, disorientation, and blankness. Those who want to see a replacement for Rahul argue that if PV Narasimha Rao could run Congress from 1991 to '96 and Sitaram Kesari from 1996 to '98, why anyone should doubt the capabilities of any other non-Nehru-Gandhi in heading the party now? In my opinion, they obliterate a few facts. Rao became the Congress president after the tragic assassination of Rajiv Gandhi when Sonia Gandhi was not at all willing and even accomplished enough to take over the reins of the party and Rahul and Priyanka were only 21 and 19 years old. Congress leaders of the time had no other option than to accept a transitory arrangement. Also Read - A very ambitious aim It is another story that how temporal Rao-era proved? He could run the presidency for five years because he became the prime minister also. The day he was no prime minister, it became clear that his days as president are numbered and Kesari threw him out one fine morning. Kesari also had to face a similar fate after some time as foot-soldiers of the Congress party never accepted his election as a logical outcome. After a careful study of party affairs for seven long years ultimately Sonia had to take over and the Congress party flourished and moved with a fast pace. Also Read - A long way to go Rao did not replace any existing Nehru-Gandhi, he initially came as their choice. Kesari also did not replace Nehru-Gandhi or a person of their choice. Rao had become persona non grata long before Kesari occupied party president's chair. Kesari, like Rao, also became party president as a choice of Congress' first family initially. But the old man was in a big hurry to take up the prime ministerial assignment and his indulging in crude manoeuvres to achieve this goal cost him his party's captainship. Today's situation is different. Rahul Gandhi is in no mood to depart from his stand that he will not hold the presidency anymore; the fact remains that he is leaving with a bruise on his soul, with anguish in his heart, and distress in his mind. He is being hard on himself because he does not want others to pretend as nothing has happened and make them accountable too. But he underestimated the expertise of a set of Congress leaders in rubbing salt on his wounds. It was a well-calibrated result that there were no rallies in support of Rahul across the country, no resignations of any major leaders followed for full one month and there were no sincere efforts to resolve the logjam. Do you need a signal to respond at the time of an emergency? What could have been a bigger urgency to attend to than Rahul's quitting so abruptly? Congress workers have witnessed all this sitting helplessly at every nook and corner across the country. Do you think, any new president will get a whole-hearted welcome by the grassroots workers? Party workers will always have a feeling that the person riding on their back is there because Rahul was practically made to give up in spite of his astounding job during the 2019 election campaign. Accountability, after all, has to be collective. If Rahul is accountable, around 5000 other small and big leaders are equally responsible for the current debacle. The bigger question than the election outcome is the organisational strength Congress has on the ground. Who are to blame for that? What were the assignees for this responsibility doing all these years? Why are they still there if Rahul has gone? It is no use hiding the fact that Congress is in limbo for more than a month and its workers are deeply disappointed with the organisation's proceedings. To revitalise the party, corrective measures must have begun from day one after the election results but rather than focusing on honest, dispassionate and objective evaluation, Congress is trapped in an unnecessary situation. Any new president of the Congress party will have to innovate strategies to counter BJP's expertise in magnifying, distorting, misrepresenting and exploiting every political issue in its favour. Congress has no such mechanism and certainly not a piece of machinery to propagate and execute its programs and plans. There is no inadequacy of competent leaders in Congress who are administratively well qualified to lead the party. Names such as Dr Manmohan Singh, A K Antony, Motilal Vora, Dr Karan Singh, Mallikarjun Kharge, Ahmed Patel, Sheila Dikshit, Ambika Soni, Gulam Nabi Azad, Tarun Gogoi, Verappa Moily, Anand Sharma, Oommen Chandy, P Chidambaram, Kamal Nath, Digvijay Singh, Sushil Kumar Shinde, Capt. Amrinder Singh, and Meira Kumar are of no less eminence. They might have their positive as well as negative serviceability depending on from which angle you see them. But any of them can run the Congress with the help of a set of working presidents or vice presidents. There are views that only administrative abilities are not sufficient for the captaincy of Congress like a pan-Indian party. The party cadre and common people across the nation must perceive the new face as someone who can lead them. To attain this position s/he will require indomitable support from Rahul-Sonia-Priyanka and party's infantry troopers. Where is that persona? I have no idea if Congress supporters in our country are acclimatised for out of the way experimentations, but if they have an appetite to digest it, the top job can be assigned to KC Venugopal, Jairam Ramesh, Shashi Tharoor, Sam Pitroda, Rajeev Satav, Milind Deora, Gaurav Gogoi , and Randeep Surjewala. If you want to go many steps further you can even think of Raj Babbar, Navjot Singh Siddhu and Sanjay Nirupam also for holding the presidency. In this case, why not to consider Aslam Sherkhan who has 'very kindly offered' his services to hold the position for two years. I would pray the God almighty to not bless the decision makers to take such 'revolutionary' steps! With elections in Haryana and Maharashtra in October-November this year, in Delhi and Jharkhand early next year and in Bihar in October 2020; Congress cannot afford to bank on an untested shoulder. Congress is no Bhartiya Janta Party where a Bangaru Laxman or a Jena Krishnamurti or a JP Nadda can be put on a pedestal and its party cadre, with very effective assistance from strong RSS network, can take care of the rest of the things. In addition to this, for past 6-7 years "MoSha factor"—where Modi and Shah spare no stone unturned—has beaten all the normal equations of any political challenge. If Rahul's determination in neutralising Narendra Modi is not sufficient to delight high-handed brokers within Congress, who else will be able to hold waters? (The author is Editor & CEO of News Views India and a national office bearer of the Congress party. Views expressed are strictly personal)

http://www.millenniumpost.in/opinion/journey-to-blankness-360800?fbclid=IwAR0rYyVzdItLZYVM0ls2Qign4iMHXrhO8MZis4ee0yZkQF_KGaOQfyu-Mfw

राहुल के सम-भाव का सबसे बड़ा इम्तहान


Pankaj Sharma
  • 29 June, 2019  

एक महीने से कांग्रेसी क्षितिज पर तरह-तरह के रंगों के छींटे देख कर मेरी आंखें चकित भी हैं और व्यथित भी। राहुल गांधी कांग्रेस-अध्यक्ष बने रहने को तैयार नहीं हैं। वे तैयार हो जाएं, इसके लिए कांग्रेस ज़्यादा कुछ करती दिखाई भी नहीं दे रही है। पिछले महीने के अंतिम शनिवार को कांग्रेस की कार्यसमिति में राहुल ने इस्तीफ़ा दिया तो उसे एकमत से नामंज़ूर करने की औपचारिकता भले ही उसी वक़्त पूरी हो गई, मगर इसके बाद राहुल की ना से कहीं कोई हंगामा नहीं बरपा। राहुल का दुःख सब का दुःख क्यों नहीं बन रहा? यह समूची कांग्रेस का साझा दुःख क्यों नहीं है? ठीक है कि राहुल ने एक बार नहीं, कई-कई बार साफ़ कर दिया कि अब वे नहीं मानेंगे तो नहीं मानेंगे, मगर मुझे ताज्जुब इस बात का है कि राहुल के फ़ैसले से कांग्रेस की पैदल-सेना में पैदा हुई गहरी बेचैनी की चिनगारियां तेज़ी से भड़कीं क्यों नहीं? हम सब ने देखा है कि ऐसे मौक़ों पर तो कांग्रेसी, बिना किसी के कहे, अपने-आप घरों से निकल पड़ते हैं। और, ऐसे भी मौक़े आए हैं कि जब वे ख़ुद घरों से नहीं निकले हों तो क्षत्रपों के संकेत का एक बटन दबते ही पूरे मुल्क़ में भावनाओं के दावानल फूटने लगते हैं।
इस बार ऐसा क्यों नहीं हुआ? क्या राहुल की सियासी स्व-समाधि इतनी मामूली घटना है कि कांग्रेसी समंदर में हलका-सा भी ज्वार न आए? क्या हम आंख मूंद कर यह यक़ीन कर लें कि देश भर में कांग्रेस की ज़मीन पर कहीं ऐसा कोई मौजूद नहीं है, जिसका चित्त राहुल की विदा-घोषणा से व्याकुल नहीं है? अगर ऐसा नहीं है तो फिर इन आंसुओं का बहाव किन घूरती आंखों के इशारों ने सुखा डाला? इस विलाप की आवाजे़ं किन कोठरियों में क़ैद हो गईं? लोकसभा के चुनाव-अभियान में राहुल के जुझारूपन पर फ़िदा टोलियां किन की गोद में समा गईं? 
जो कांग्रेस को जानते हैं, वे खूब जानते हैं कि यह सन्नाटा ऐसे ही नहीं पसरा हुआ है। इस एक महीने में बहुतों ने बहुतों के मन में लड्डू फूटते देखे हैं। चलाना-वलाना तो बाद की बात है, 134 बरस पुरानी पार्टी की उस कुर्सी पर, जिस पर एक-से-एक कद्दावर बैठे,  नाम के लिए ही सही, बैठने को ऐसे-ऐसों की आत्मा फुदक रही है, जिन्हें उनके गली-मुहल्ले में भी कोई आते-जाते सलाम नहीं करता है। मेरा तो बीता ही है, आपका भी यह पूरा महीना ऐसे तमाम लार-टपकाउओं के दीदार करते बीता होगा। इन लोगों की चिंता कांग्रेस को इस अंधेरे कोने से खंीच कर बाहर लाने की नहीं, पगड़ी-रस्म में अपना-अपना सिर घुसाने की है। वे सब ‘मन-मन भावे, मूड हिलावे’ की आसन-मुद्रा साधे बैठे हैं।
यह कांग्रेसियों की इस नस्ल की वीभत्स मतलबपरस्ती का दौर है। इन अलीबाबाओं को लग रहा है कि कांग्रेस के शुभंकर राहुल गांधी की विदाई के आसार ने उनके लिए सिमसिम-गुफ़ा का दरवाज़ा खोल दिया है। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि आपके बनाए राक्षस आपको ही खाने दौड़ने लगते हैं। कांग्रेस ऐसे ही समय से गुज़र रही है। मैं बिना ग्रह-नक्षत्रों की गणना के भी यह भविष्यवाणी कर सकता हूं कि अगर राहुल ने कांग्रेस का नेतृत्व करते रहने के अपने बुनियादी कर्तव्य-बोध पर ख़ुद की आहत भावनाओं को हावी रहने दिया तो 2020 के पहले दिन का सूरज उगते-उगते कांग्रेस की सूरत पहचान में आने लायक़ भी नहीं रहेगी। इसलिए यह आनाकानी का नहीं, पूरी कांग्रेस का तिया-पांचा एक कर उसे सड़ांध मारती बावड़ी से खींच कर बाहर लाने का वक़्त है।
जो भी यह सोचता है कि कोई भी अध्यक्ष बने, कांग्रेस आगे बढ़ती रहेगी, वह महामूर्ख है। किसी भी राजनीतिक संगठन का मुखिया सिर्फ़ रूप-मूर्ति नहीं होता है। वह एक ऊर्जा-स्त्रोत होता है--निराकार ऊर्जा-पुंज। भारत की लोक-आस्था में चाहे जो यह स्थान प्राप्त नहीं कर सकता। ख़ासकर आज के ज़माने में तो बिल्कुल नहीं। राहुल आहत हैं कि उनके अपने भी उनकी राह पर चलने को तैयार नहीं दीखते। उनकी व्यथा है कि उनके हमजोली भी उनकी सुनने को राज़ी नहीं लगते। उनका संताप है कि बहुत-से लोग ऐसा दिखावा कर रहे हैं, जैसे कुछ हुआ ही न हो और अपनी जवाबदेही से बच रहे हैं। इसलिए राहुल ने जवाबदेही की शुरुआत ख़ुद से कर दी। 
राजनीति की दुनिया है ही ऐसी कि इसमें रिश्ते इतने कच्चे होते हैं। इससे क्या दुःखी होना? राहुल को समझना चाहिए कि हमारा इच्छा-स्वातंत्र्य तो हमेशा हमारे साथ होता है, मगर हम अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए हमेशा स्वतंत्र नहीं हैं। कांग्रेस का नेतृत्च छोड़ने की अपनी इच्छा पर डटे रहने का यह मौजूं वक़्त नहीं है। यह तो ग़लत बातों के खि़लाफ़ दृढ़ता दिखाने का वक़्त है। नरेंद्र भाई मोदी की हाहाकारी उपस्थिति से दो-दो हाथ करने का अद्भुत माद्दा रखने वाले राहुल अपनी पार्टी के भीतरी खोखलेपन को दुरुस्त करते समय भावुक होने लगेंगे तो कैसे काम चलेगा? बिना किसी मुनादी और नगाड़ेबाज़ी के काम करने का हुनर सबको नहीं आता। राहुल को यह आता है। यह कहने वाले तो रहेंगे कि आज कांग्रेस की इस हालत के लिए राहुल भी इसलिए ज़िम्मेदार हैं कि उन्होंने अपने हमजोली चुनने में चूक की। मगर मैं मानता हूं कि बावजूद इसके उनके अलावा कोई और कांग्रेस का इसलिए उद्धार नहीं कर सकता है कि राहुल में अपने भीतर की यात्रा करने का जो जज़्बा है, वह कांग्रेसियों में दुर्लभ है।
इंद्रप्रस्थ की स्थापना के बाद महर्षि नारद ने युधिष्ठिर और अन्य भाइयों से प्रशासन संबंधी जो चर्चा की, उसका महत्व चिरंतन है। महाभारत के सभा-पर्व में इसका बहुत विस्तार से ज़िक्र है। नारद पूछते हैं, हे राजन! आपके चारों तरफ़ जो मित्र हैं, जो शत्रु हैं और जो न मित्र हैं, न शत्रु हैं; उन सबकी गतिविधियों पर आप नज़र रखते हैं या नहीं? क्या आप उसके अनुसार अपनी योजनाएं बनाते हैं? जो आपके मित्र हैं, क्या वे भरोसे के हैं? क्या आपके पास सही सलाह देने वाले मंत्री हैं? क्या उन सबका आपसे लगाव पक्का है? नारद ने पांडव-भाइयों से कहा कि राजा की विजय सही सलाह पर ही निर्भर है। महाभारत में कहा गया है कि वह सभा नहीं, जिसमें वृद्ध न हों। वृद्ध यानी बुड्ढे नहीं--तपे-तपाए लोग। और, वे वृद्ध नहीं, जो धर्म नहीं बताते। और, वह धर्म नहीं, जो सत्य नहीं। और, वह सत्य नहीं, जिसमें छल-कपट हो। राहुल को इन बीज-मंत्रों का ताबीज़ अपनी बांह पर धारण कर लेना चाहिए।
जब लोग आपको दोष दे रहे हों, आपको समझ नहीं पा रहे हों, ऐसे वक़्त में मुस्कराने के लिए आपको भीतरी ताक़त की ज़रूरत होती है। जब स्थितियां उस तरह की न हों, जैसी आप चाहते हैं तो अविचलित बने रहने के लिए आपको डटे रहने की क्षमता, शक्ति और साहस की जरूरत होती हे। गीता में कहा गया है ‘समत्वम् योग उच्यते’। यह सम-भाव ही किसी के भी जीवन की असली परीक्षा है। कस्तूरबा का अंतिम समय था। महात्मा गांधी की आंखों में आंसू थे। उन्होंने कहा कि आज मेरे सम-भाव का सबसे बड़ा इम्तहान है। मुझे याद है कि राहुल ने अपने विवाह के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा था कि उनकी शादी तो कांग्रेस से हो चुकी है। सो, मरणासन्न पड़ी कांग्रेस के सिरहाने बैठे राहुल के सम-भाव का भी आज सबसे बड़ा इम्तहान है।(लेखक न्यूज़-व्यूज़ इंडिया के संपादक और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी हैं।)